Skip to main content

Posts

Showing posts from June, 2019

हवन से भगा रहे हैं चमकी बुखार, बच्चों की मौत पर पाखंडियों का नंगा नाच

अगर  हवन पूजन से कुछ होना था, तो पहले ही कर देते. हद है, जब बुखार फैल गया तब कर रहे हो. सीधे ही ईश्वर को फोन क्यों नहीं लगा देते, हे ईश्वर! चमकी बुखार को वापस ले ले, इसे यहां भेजने की क्या जरूरत थी. मुजफ्फरपुर में पुजारियों के एक समूह ने चमकी बुखार के बढ़ते प्रकोप को रोकने के लिए हवन किया.   दोस्तों विज्ञान में बहुत विकास कर लिया है, परंतु धार्मिक पाखंड मनुष्य का आज भी पीछा नहीं छोड़ रहा है. पाखंडी इसका फायदा उठाकर जनता को मूर्ख बनाते हैं और समाज में अज्ञानता का विकास करते हैं. शायद इसी ईश्वरवाद के वशीभूत होकर लोग सरकार से सवाल नहीं पूछते. आखिर सरकार ने बुखार फैलने के बाद और पहले क्या किया, जिससे कि बच्चों की जान बच सकें. दोस्तों सच्चाई यह है कि 100 साल पहले भी तरह-तरह की महामारियां फैलती थीं. जिसमें लाखों लोग मारे जाते थे. इन महामारियो की रोक के लिए इंग्लैंड के एक डॉक्टर, डा. एडवर्ड जेनर ने टीके की खोज की. उन्होंने यह टीका चेचक के लिए बनाया था. भारत में पहले लोग चेचक को भी ईश्वरीय प्रकोप मानते थे. कम चेचक होने पर उसे छोटी माता कहते थे, बड़ा चेचक होने पर उसे बड़ी माता कहते थे. परंतु …