Posts

इस कार्टून को देखने के बाद, मोदी और मीडिया विरोधी हो जाएंगे आप

Image
मीडिया और मोदी की सच्चाई मशहूर अमेरिकी कार्टूनिस्ट, Ben Garrison ने अपने इस कार्टून में बखूबी पेश की है. इस कार्टून को देख कर आप मोदी विरोधी हो जाएंगे और टीवी देखना भी छोड़ देंगे.

सम्यक पार्टी की बरेली जिला कार्यकारिणी का गठन, राष्ट्रीय अध्यक्ष तपेंद्र शाक्य उपस्थित रहे

Image
सम्यक पार्टी की बरेली जिला कार्यकारिणी का गठन, कल दिनांक 16 मार्च 2019 को  शाम के समय हुआ. सम्यक पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष तपेंद्र शाक्य जी की उपस्थिति में कार्यकारिणी का गठन बरेली मंडल अध्यक्ष देवेंद्र मौर्य के द्वारा किया गया. श्री विजय सिंह मौर्य को जिलाध्यक्ष, चंद्रपाल मौर्य एडवोकेट को जिला उपाध्यक्ष ,कुंवर भूपेंद्र मौर्य के जिला महासचिव संगठन, टी आर मौर्य जी को जिला कोषाध्यक्ष, पी पी मौर्य को जिला प्रवक्ता नामित किया गया। महेंद्र सिंह, पप्पू जी,  धर्मवीर मौर्य ,गंगा राम फौजी, हरपाल मौर्य  तथा तमाम लोगों ने सम्यक पार्टी की सदस्यता ग्रहण की। कार्यक्रम में प्रदेश अध्यक्ष , उ प्र सम्यक महिला सभा मा कविता अरोड़ा भी उपस्थित रहीं. - द फाइंडर ब्यूरो

बुद्ध कथा का आयोजन, पंचशील नगर बरेली में, 2 अप्रैल 2019 से

Image
बुद्ध व भीम कथा, का आयोजन, द बुद्धिस्ट सोसायटी ऑफ इंडिया, के द्वारा पंचशील नगर बरेली में किया जा रहा है, सोसायटी के प्रदेश अध्यक्ष इंजीनियर एसडी भास्कर से प्राप्त जानकारी के अनुसार कथा 2 अप्रैल से 6 अप्रैल तक चलेगी. कथा का वाचन, प्रसिद्ध बुद्ध कथावाचिका कुमारी रजनी शाक्य बौद्ध करेंगी.  - द फाइंड ब्यूरो

देश के लिए पटेल या सुभाष चाहिए. -कवि हरिओम पवार

Image
महा कवि हरिओम पवार की देशभक्ति से ओतप्रोत कविता देश के लिए पटेल या सुभाष चाहिए इस वीडियो में दी गई है. अतः आपसे अनुरोध है की आप इस वीडियो को देखें और बहुत सारे लोगों को शेयर करें. -द फाइंडर ब्यूरो

पुलवामा आतंकी हमले की असली जिम्मेदार मोदी सरकार है.

Image
पुलवामा आतंकी हमले की असली दोषी हमारी सरकार है, जैसा कि आप जानते हैं कि पुलवामा में आतंकी हमले में हमारे 42 जवान शहीद हो गए, जिससे सारा देश शोक में है. सवाल उठ रहे हैं कि आखिर पुलवामा आतंकी हमले का असली जिम्मेदार कौन है. इस सवाल का जवाब सभी लोग पाकिस्तान पर आरोप लगाकर दे रहे हैं कि इस हमले का दोषी पाकिस्तान है. परंतु साथियों इस हमले के लिए हमारी सरकार कम दोषी नहीं है.
-इस हमले में हमारा पूरा तंत्र फेल हुआ है हमें अपने तंत्र को सुधारने की आवश्यकता है तभी हम इस तरह के हम ने रोक सकते हैं.
-हमें आतंकवाद के सरगनाओं को पकड़ने की जरूरत है पैसे की जैश ए मोहम्मद का सरगना मसूद अजहर.
आतंकवाद का समाधान जानना चाहते हैं तो ऊपर का वीडियो जरूर देखें.
-द फाइंडर ब्यूरो

पुलवामा आतंकवादी हमले पर दुखी न हो बल्कि.....

Image
देश के नागरिकों से अनुरोध है कि पुलवामा आतंकवादी हमले पर दुखी न हो. बल्कि आक्रोशित हो, उन लोगों पर जिन्होंने धारा 370 हटाने का वादा किया था. एक के बदले 10 सिर लाने का वादा किया था. कश्मीर को भारत में पूरी तरह से मिलाने का वादा किया था. अलगाववादी समर्थक पार्टी के साथ हां दोस्तों यही मोदी जब सरकार में नहीं थे. तब आतंकवाद के खिलाफ बड़े-बड़े भाषण देते थे. कश्मीर से धारा 370 खत्म करने की बात करते थे पर जब से सरकार में आए तो धारा 370 को भूल गए. धारा 370 को एक बार भी हटाने का प्रयास नहीं किया. मोदी जी बड़ी-बड़ी बातें करते थे बल्कि कश्मीर में अलगाववादियों की सरकार के साथ उन्होंने सरकार भी बनाई. मनुवादी हैं राष्ट्रवादी नहीं मोदी सरकार का मनुवाद उस समय सामने आ गया, जब असंवैधानिक सवर्ण आरक्षण उन्होंने केवल 24 घंटे के अंदर सदन में पास करके 72 घंटे के अंदर लागू कर दिया. सभी पार्टियों ने सवर्ण आरक्षण का समर्थन किया परंतु कश्मीर में धारा 370 पर किसी पार्टी का मुंह नहीं खोला. भाजपा जो कि अपने चुनावी मुद्दों में अक्सर धारा 370 का रोना रोती रही है, उसने अपनी सरकार में धारा 370 को हटाने का कोई प्रयास नहीं…

इंदिरा गांधी ने कराई थी बाबू जगदेव प्रसाद कुशवाहा की हत्या

Image
कांग्रेस, ब्राह्मणवाद और मनुवाद की जड़े हिला देने वाले महान क्रांतिकारी जगदेव प्रसाद कुशवाहा, जिन्हें भारत का लेनिन कहा जाता है, की हत्या पुलिस ने कांग्रेस की तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के इशारे पर कर दी थी. बाबू जगदेव कुशवाहा का जन्म बिहार के एक मौर्यवंशी परिवार में हुआ था. सम्राट अशोक महान के वंशज होने के कारण उनके खून में वही उबाल था और वही क्रांति ज्वाला. जन्म बाबू जगदेव प्रसाद कुशवाहा का जन्म भगवान बुद्ध की तपोस्थली बोधगया के निकट कुर्था प्रखंड के कुरहारी ग्राम में 2 फरवरी 1922 को हुआ था. उनके पिता का नाम प्रयाग नारायण कुशवाहा और माता का नाम राजकली देवी कुशवाहा था.  शिक्षा गांव से ही आठवीं पास करने के बाद हाई स्कूल की पढ़ाई के लिए वे जहानाबाद चले गए. उसके बाद पटना यूनिवर्सिटी से स्नातक की पढ़ाई पूरी की एवं 1950 में अर्थशास्त्र में परास्नातक किया. एक कोइरी किसान परिवार के लिए यह बहुत बड़ी उपलब्धि थी, क्योंकि शिक्षा उस समय केवल उच्च वर्ग के लोग ही ले पाते थे. पत्रकारिता सोशलिस्ट पार्टी में जुड़ने के बाद उन्होंने सोशलिस्ट पार्टी की जनता पत्रिका का संपादन किया. कुछ समय तक हैदराब…